Home | MEDIA

मीडिया में बढ़ते एकाधिकार पर ट्राई का प्रहार

भारतीय टेलीकॉम रेगुलेटरी अथारिटी (ट्राई) ने मीडिया में बढ़ते एकाधिकार के खतरे को रोकने के लिए सरकार को अपनी सिफारिश भेजी है। ...

इंडिया टुडे के संपादक बने अंशुमान तिवारी

लंबे समय तक दैनिक जागरण के ब्यूरो चीफ रहे अंशुमान तिवारी अब इंडिया टुडे (हिन्दी) के संपादक हो गये हैं। दस दिन ...

समाचार विस्फोट के तीन साल पूरे
 

समाचार विस्फोट के तीन साल पूरे

नागपुर से प्रकाशित हिंदी मासिक पत्रिका समाचार विस्फोट के सफल प्रकाशन के तीन वर्ष पूरे हो गए हैं। समाचार विस्फोट ने गत तीन वर्षों में एक से बढ़ कर एक गंभीर जनपक्षधर मुद्दों को बेहतरीन ढंग से उठाया है। फिलहाल समाचार विस्फोट का प्रसार महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश, राजस्थान, बिहार आदि राज्यों के कुछ क्षेत्रों में है। ... Full story

हिन्दी के आंदोलनकारियों को टाइम्स आफ इंडिया ने बताया 'दंगाई'
 

हिन्दी के आंदोलनकारियों को टाइम्स आफ इंडिया ने बताया 'दंगाई'

सिविल सेवा की परीक्षाओं में अंग्रेजी की अनिवार्यता के खिलाफ दिल्ली के मुखर्जी नगर इलाके में चल रहे आंदोलन को अंग्रेजी के अखबार टाइम्स आफ इंडिया ने दंगा करार दे दिया है। टाइम्स आफ इंडिया के आनलाइन संस्करण में मुखर्जी नगर के आंदोलन को दंगा करार देते हुए टाइम्स आफ इंडिया लिखता है "सिविल सर्विसेज की तैयारी करनेवाले छात्र दंगाई बन गये हैं।'' स्टोरी में टाइम्स आफ इंडिया आगे लिखता है कि "बुधवार की रात मुखर्जी नगर और तिमारपुर के इलाके में जमकर हंगामा हुआ।" ... Full story

संपादक समुदाय के माथे पर कलंक
 

संपादक समुदाय के माथे पर कलंक

दिल्‍ली से एक 'अद्भुत' अख़बार पिछले कुछ दिनों से निकल रहा है। नाम है 'प्रजातंत्र लाइव'। इसे निकालने वाला एक चिटफंड समूह है। इसका एक अद्भुत चैनल है 'लाइव इंडिया' और इसी नाम से एक अद्भुत पत्रिका भी है। 'प्रजातंत्र लाइव' नाम के जिस अख़बार में दुष्‍यंत, विमल झा और रासबिहारी जैसे पुराने परिचित पत्रकार खुद को दिन-रात खपाए हुए हैं, उसका 'प्रधान संपादक' कोई प्रवीण तिवारी है जिसकी सुदर्शन तस्‍वीर रोज़ संपादकीय पन्‍ने पर छपती है अलबत्‍ता उसके नाम का लेख किसी का भी लिखा हो सकता है। इस व्‍यक्ति को अपना नाम और तस्‍वीर छपवाने का ऐसा शौक़ है कि वह विशेष आग्रह कर संपादकीय के लोगों से कहता है कि भाई कुछ भी छाप दो मेरे नाम से। ... Full story

अब अतीत की याद: न्यूज 24 लांच के वक्त सुप्रिय प्रसाद और अनुराधा प्रसाद के साथ अजीत अंजुम
 

बहुत कुछ लिखूंगा मगर धीरे धीरे

आखिरकार अजीत अंजुम ने न्यूज 24 से अपना नाता तोड़ लेने के बाद यादों का नाता जोड़ना शुरू कर दिया है। अपने फेसबुक पेज पर आज अजीत अंजुम ने अतीत के अपने दिनों को याद करते हुए कुछ लिखा है और वादा किया है आनेवाले दिनों में बहुत कुछ और भी लिखेंगे। लेकिन धीरे धीरे। तो उन्हीं के फेसबुक वाल से उनकी यादों की पहली किश्त। ... Full story

पत्रकारों दलाली छोड़ो, दलालों पत्रकारिता छोड़ो
 

पत्रकारों दलाली छोड़ो, दलालों पत्रकारिता छोड़ो

मध्य प्रदेश श्रमजीवी पत्रकार संघ के प्रांताध्यक्ष शलभ भदौरिया कहा कि मजीठिया आयोग द्वारा निर्धारित वेतन अखबार मालिकों द्वारा पत्रकारों को नहीं दिया जाना पत्रकारों का शोषण है जो बहुत ही निंदनीय है। माजीठिया आयोग तुरंत लागू किया जाना चाहिए ताकी श्रमजीवी पत्रकारों को मालिकों से वास्तविक वेतन मिल सके। ... Full story

पुण्यतिथि पर याद किये गये भास्कर के संस्थापक डीपी अग्रवाल
 

पुण्यतिथि पर याद किये गये भास्कर के संस्थापक डीपी अग्रवाल

भास्कर समूह के संस्थापक स्वर्गीय द्वारका प्रसाद अग्रवाल की 21वीं पुण्यतिथि पर शनिवार को उन्हें याद किया गया। इस मौके पर देशभर में भास्कर न्यूज के दफ्तरों में उन्हे श्रद्धांजलि दी गई। नोएडा स्थित भास्कर न्यूज के हैड ऑफिस में भी श्रद्धांजलि कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम में भास्कर न्यूज चैनल के एक्जिक्यूटिव एडिटर समीर अब्बास और सीएफओ नीरज भारद्वाज ने श्रद्धासुमन अर्पित किए। ... Full story

वाट्स एप से आगे निकला हाइक
 

वाट्स एप से आगे निकला हाइक

भारत में वाट्सएप्प की धूम के बीच एक भारतीय मैसेन्जर सर्विस ने दावा किया है कि एक दिन के लिए ही सही उसने भारत में वाट्स एप्प को पछाड़ दिया है। भारती साफ्टबैंक के मैसेन्जर हाइक की तरफ से दावा किया गया है कि 15 जुलाई को हाइक को कुल तीन लाख लोगों ने डाउनलोड किया जो कि एन्डराइड पर एक दिन में डाउनलोड होनेवाले एप्लीकेशन में रिकार्ड है। हाइक मैसेन्जर भारत की भारती एयरटेल और जापान की साफ्टबैंक द्वारा संयुक्त रूप से तैयार की गई मैसेजिंग सर्विस है। ... Full story

हाफिज वैदिक मुलाकात पर ओम थानवी ने भी उठाये सवाल
 

हाफिज वैदिक मुलाकात पर ओम थानवी ने भी उठाये सवाल

पाकिस्तान में आतंकी सरगना हाफिज सईद से मुलाकात पर जनसत्ता के संपादक ओम थानवी ने भी गंभीर सवाल उठाये हैं। अपने फेसबुक पेज पर ओम थानवी ने दोनों की मुलाकात पर सवाल उठाते हुए लिखा है कि पत्रकार के भेष में वेद प्रताप वैदिक पता नहीं कौन सी राजनीति कर रहे हैं। ... Full story

1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 next last total: 663 | displaying: 1 - 10
  1. बाढ़ से ज्यादा झूठ का प्रकोप (5.00)

  2. सपा ने रद्द किया आजम खान का निष्कासन (5.00)

  3. अब शुरू हुआ असली खेल (5.00)

  4. आसान नहीं है कश्मीर का समाधान (5.00)

  5. अशोक चव्हाण ने इस्तीफा दिया, कलमाड़ी हटाये गये (5.00)

find us on facebook
follow us on twitter

Featured author

Vinod Upadhyay

Vinod Upadhyay

मूलत: बक्सर बिहार के रहनेवाले विनोद उपाध्याय भोपाल में रहकर पत्रकारिता करते हैं. दैनिक राष्ट्रीय हिन्दी मेल से पत्रकारिता में प्रवेश. वर्तमान में भोपाल से ही प्रकाशित होनेवाले दैनिक अग्निबाण से जुड़े हुए हैं.