Home | NEWS

मन्ना मन से ना मरना

1919 में कोलकाता में पैदा होनेवाले मन्ना दा देश के पद्मविभूषण पहले हुए बंग विभूषण बाद में। 1942 से संगीत की दुनिया ...

शोभन की सरकार

कानपुर देहात का इलाका। गांव का नाम शिवली। शुक्ला का पुरवा मोहल्ला। ब्राह्मण तिवारी परिवार में जन्म। अतीत में शोभन सरकार का ...

मौत का अभ्यारण्य बना कान्हा
 

मौत का अभ्यारण्य बना कान्हा

जहां बाघों की लगातार बढ़ती संख्या से कान्हा नेशनल पार्क देश में वाहवाही बटोर रहा है। वहीं बढ़ते वन्य जीवों के अपराध के मामले में यहां अंकुश नहीं लगाया जा पा रहा है। लगातार वन्य जीवों के हो रहे अवैध शिकार पर नकेल नहीं कसी जा सकी है। जहां पार्क प्रबंधन सुरक्षा के पर्याप्त इंतजाम की बात कर रहा है। वहीं मौतों के न थमने वाले सिलसिले ने प्रबंधन के इंतजामों की कलई खोल कर रख दी है। ... Full story

चुनाव से पहले कांग्रेस से मुक्ति चाहते है मुलायम
 

चुनाव से पहले कांग्रेस से मुक्ति चाहते है मुलायम

लोकसभा चुनाव से पहले मुलायम सिंह यादव यूपीए को दिया गया अपना समर्थन वापस लेकर कांग्रेस से मुक्ति चाहते हैं। इस बात के संकेत समाजवादी पार्टी ने दिया है। लखनऊ में पार्टी की राज्य कार्यकारिणी की बैठक के बाद पार्टी प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी ने पत्रकारों से बातचीत में इस तरह की बाते कही है। उनका कहना है कि समाजवादी पार्टी की ओर से जनहित के कार्यक्रमों के मददेनजर सर्मथन दिया गया है ना कि जनविरोधी कार्य करने के लिये। ... Full story

कानपुर की रैली में नरेन्द्र मोदी
 

मोदी ने किया कांग्रेस मुक्त भारत का आह्वान

कानपुर में अपनी बहुप्रचारित रैली को संबोधित करते हुए नरेन्द्र मोदी ने आज कहा कि अब कांग्रेस मुक्त भारत का सपना पूरा करने का समय आ गया है। जैसे आजादी की एक लड़ाई में भारत से अंग्रजों से मुक्ति दिलाई गई थी वैसे ही अब वक्त आ गया है कि देश को कांग्रेस से मुक्त कराया जाए। कानपुर में आयोजित रैली को संबोधित करने के लिए नरेन्द्र मोदी पार्टी अध्यक्ष राजनाथ सिंह के साथ पहुंचे थे और उन्होंने करीब पैंतालिस मिनट वहां उपस्थित जनता को संबोधित किया। कानपुर में मोदी की इस पहली रैली को सिंहनाद रैली का नाम दिया गया था। इसके बाद अभी नरेन्द्र मोदी की उत्तर प्रदेश में आठ और रैलियां आयोजित की जाएंगी। ... Full story

जमीन में दफन की गई देवी दुर्गा
 

जमीन में दफन की गई देवी दुर्गा

आमतौर पर दुर्गापूजा के बाद हिन्दू देवी दुर्गा को नदियों में ही प्रवाहित किया जाता है लेकिन इस बार उत्तर प्रदेश में कई जगह ऐसा नहीं किया गया। इस बार कई जगह देवी दुर्गा को जल में प्रवाहित करने की जमीन में दफन किया गया। ऐसा हुआ इलाहाबाद हाईकोर्ट के नदियों को स्वच्छ रखने के प्रयास के तहत दिये गये आदेश के कारण। बाराबंकी के तहसील हैदरगढ़ में गोमती नदी को स्वच्छीकरण व प्रदूषण दूर रखने के लिए दुर्गा प्रतिमाओं का भूविसर्जन किया गया। ... Full story

बिहार योग भारती के परमाचार्य परमहंस स्वामी निरंजनानंद सरस्वती
 

योगनगरी मुंगेर में विश्व योग सम्मेलन

योगनगरी मुंगेर में पांच दिवसीय विश्व योग सम्मेलन आगामी 23 अक्टूबर से होगा। इस सम्मेलन का उद्घाटन बिहार के राज्यपाल डीवाई पाटिल करेंगे, जबकि समापन समारोह में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार शिरकत करेंगे। पचास वर्षों का सफर तय करते हुए बिहार योग विद्यालय ने योग शिक्षण के क्षेत्र में विश्वव्यापी ख्याति अर्जित की है। स्वामी शिवानंद के संकल्प को साकार करते हुए स्वामी सत्यानंद ने योग की एक ऐसी पद्वति विकसित की, जिसका उद्गम प्राचीन परंपराओं में निहित था और जिसका व्यवहारिक स्वरूप आधुनिक युग के सर्वथा अनुकूल। यही पद्धति आज सत्यानंद योग अथवा बिहार योग के नाम से पूरी दुनिया में जानी जाती है ... Full story

शामली जनपद के एक राहत शिविर में तंबू लगाकर बैठा पीड़ित परिवार।
 

तम्बू और तंगी में बीत गया ईद का त्यौहार

मुजफ्फरनगर दंगों के बाद पीड़ित लोगों की जिंदगी अब तम्बुओं में कट रही है। परेशानियों से दो चार होते इन परिवारों को कहीं खुशी कहीं गम इन्हीं तम्बुओं में मिल रहा है। बुधवार को जब ईदुल जुहा का त्यौहार मुजफ्फरनगर और शामली के इलाकों में धूमधाम से मनाया जा रहा था तो दंगे से पीड़ित लोग मन मसोस कर इन तम्बुओं में बैठकर अपने गांव को याद कर रहे थे। कभी वो हंसी खुशी के साथ अपने गांव में लोगों के बीच ईद का त्यौहार मनाते थे लेकिन इस बार बकरीद पर उन्हें दूसरे समुदाय का कोई भी व्यक्ति बधाई देने नहीं आया। तम्बुओं में अकेले रहकर ही त्यौहार मनाया। यही नहीं इससे भी कहीं ज्यादा इनके लिए तम्बुओं की जिंदगी इतनी घातक हो रही है कि उनके सामने रोजी रोटी का तो संकट है ही बदलते मौसम में उन्हें बीमारियां, बारिश और सर्द हवाओं के साथ रात की ठिठरन की चिंता भी सताने लगी है। ... Full story

कोयला सचिव ने लगाई पीएम पर कालिख
 

कोयला सचिव ने लगाई पीएम पर कालिख

कोयला खदानों के आवंटन में साजिश तथा भ्रष्टाचार का आरोप झेल रहे पूर्व कोयला सचिव पीसी पारेख ने आज एक बार फिर कहा कि कोयला ब्लाक के आवंटन में अंतिम निर्णय प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह का था, ऐसे में उन्हें भी ‘साजिशकर्ता’ समझा जाना चाहिए। अपने खिलाफ आरोप को आधारहीन बताते हुए पारेख ने कहा कि उन्हें सरकार के निर्णय में कुछ भी गलती नहीं दिखती। पारेख ने कहा, ‘‘वास्तव में निर्णय लेने में कुछ भी गलत नहीं है। जो भी निर्णय किये गये वे निष्पक्ष तथा सही थे। मुझे नहीं पता कि आखिर सीबीआई को इसमें साजिश क्यों नजर आ रही है।’’ ... Full story

गाय की कुर्बानी न करें मुसलमान
 

गाय की कुर्बानी न करें मुसलमान

विश्वविख्यात इस्लामिक शिक्षण संस्था दारूल उलूम देवबंद ने सभी मुसलमानों से अपील की है कि वे ईदुल जुहा के मौके पर गाय की कुर्बानी न करें। संस्था के जनसंपर्क अधिकारी अशरफ उस्मानी ने आज बताया कि दारूल उलूम के मोहतमिम मुफ्ती अबुल कासिम नौमानी की ओर से ईदुल जुहा के मौके पर जारी लिखित अपील में मुसलमानों से कहा गया कि वे कानून और हिंदू भाइयों की भावनाओं का ख्याल रखते हुए ईदुल जुहा के मौके पर गाय की कुर्बानी न करें। ... Full story

first back 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 next last total: 2435 | displaying: 101 - 110
  1. बाढ़ से ज्यादा झूठ का प्रकोप (5.00)

  2. सपा ने रद्द किया आजम खान का निष्कासन (5.00)

  3. अब शुरू हुआ असली खेल (5.00)

  4. आसान नहीं है कश्मीर का समाधान (5.00)

  5. अशोक चव्हाण ने इस्तीफा दिया, कलमाड़ी हटाये गये (5.00)

find us on facebook
follow us on twitter

Featured author

Jawaharlal Kaul

Jawaharlal Kaul

पत्रकारों की पुरानी पीढ़ी में जवाहर लाल कौल चर्चित नाम है. दिनमान में लंबे समय तक काम के दौरान कई चर्चित रपटें प्रकाशित हुई. इसके बाद जनसत्ता चले गये और वहां से वरिष्ठ सहायक संपादक के पद पर काम करते हुए रिटायर हुए. वर्तमान में मुक्त पत्रकारिता और लेखन. इनकी चर्चित पुस्तक "हिन्दी पत्रकारिता का बाजारभाव" कई सारे मीडिया स्कूलों के पाठ्यक्रम में शामिल है.