सवर्ण शोषण का हथियार न बने दलित सुरक्षा कानून

कानून कमजोर वर्ग को संरक्षण और सुरक्षा प्रदान करने की गारंटी देते हैं लेकिन अगर कानून ही प्रताड़ना का औजार बन जाए तो क्या उसकी समीक्षा नहीं होनी चाहिए? क्या कानून लागू करने वाली संस्थाओं की जिम्मेदारी नहीं बनती कि वो उस कानून के दुरुपयोग को रोकें? सुप्रीम कोर्ट द्वारा एससी/एसटी एक्ट की समीक्षा ऐसा … Continue reading सवर्ण शोषण का हथियार न बने दलित सुरक्षा कानून

न हिन्दू किसी का धर्म है, न हिन्दी किसी की भाषा

भारत में हिन्दू धर्म किसी का धर्म नहीं है। वैसे ही जैसे हिन्दी भाषा किसी की भाषा नहीं है। हिन्दू और हिन्दू ये पहचान हैं, माध्यम है। धर्म और भाषा नहीं। क्योंकि जो हिन्दू हैं वो खालिस हिन्दू नहीं हैं। उनका अपना कोई न कोई मत संप्रदाय है। ठीक वैसे ही जैसे हिन्दी किसी की … Continue reading न हिन्दू किसी का धर्म है, न हिन्दी किसी की भाषा

मरने के बाद भी कट्टरपंथियों द्वारा मारी जा रही हैं असमां जहांगीर

कहने के लिए असमा जहांगीर पाकिस्तान की वकील और मानवाधिकार कार्यकर्ता थीं, लेकिन असल में उनका असर पूरे भारतीय उपमहाद्वीप में था। असमा जहांगीर एक समृद्ध पश्तून परिवार में पैदा हुई थीं और उनके पिता मलिक गुलाम जिलानी पाकिस्तान में नौकरशाह थे। जनरल जिया उल हक के दौर में उनके पिता को बहुत परेशान किया … Continue reading मरने के बाद भी कट्टरपंथियों द्वारा मारी जा रही हैं असमां जहांगीर

फोन करने पर कार्यकर्ताओं को गालियां देता है भाजपा का ये संगठनमंत्री

भारतीय जनता पार्टी की उत्तर प्रदेश में "बंपर" जीत हुई। लोकसभा में भी उसके बाद विधानसभा में। जिस वक्त उत्तर प्रदेश में ये चुनाव हुए उस वक्त पार्टी की तरफ से संगठन मंत्री के बतौर सुनील बंसल कार्यरत थे। उत्तर प्रदेश में हुई भाजपा की जीत का श्रेय सुनील बंसल को भी दिया गया और … Continue reading फोन करने पर कार्यकर्ताओं को गालियां देता है भाजपा का ये संगठनमंत्री

रामदेव: एक पाखंड कथा

रामदेव के जीवन पर बना एक टीवी सीरियल रामदेव एक संघर्ष झूठ का पुलिंदा है जिसमें सस्ती लोकप्रियता पाने के लिए रामदेव ने न सिर्फ ब्राह्मणों पर निशाना साधा है बल्कि यादवों के कुल को भी कलंकित किया है। रामदेव के गांव में दौरा करके डॉ ईश्वर सिंह यादव ने सच्चाई जानने की कोशिश तो … Continue reading रामदेव: एक पाखंड कथा

बंटवारे के लिए वह ‘पटेल’ सबसे ज्यादा जिम्मेदार था जिसे कोई नहीं जानता

प्रधानमंत्री मोदी ने संसद में खड़े होकर उस ऐतिहासिक बहस को फिर से जिन्दा कर दिया कि आखिर सरदार पटेल प्रधानमंत्री क्यों नहीं बने जबकि यह सरदार पटेल ही थे जिन्होंने देश को एक किया। विभिन्न रजवाड़ों को भारतीय तिरंगे की छत्रछाया में ले आये। संभवत: मोदी यह कहना चाहते थे कि अगर नेहरू पीएम … Continue reading बंटवारे के लिए वह ‘पटेल’ सबसे ज्यादा जिम्मेदार था जिसे कोई नहीं जानता

राफेल डील में कुछ भी काला नहीं है

भारत ने फ्रांस के जिस राफेल विमान का समझौता किया है उसका रंग हल्का काला या मटमैला है। कांग्रेस को लगता है कि जैसे विमान का रंग मटमैला है वैसे ही डील में भी कुछ काला है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने सदन में खड़े होकर कहा भी है कि डील में काला है, लेकिन … Continue reading राफेल डील में कुछ भी काला नहीं है