टूटते परिवार का दंशः सेक्स एजूकेशन

सेक्स एजूकेशन भारत के स्कूलों में दिया जाना चाहिए या नहीं, इस पर विवाद है। कुछ लोग कहते हैं कि जरूर होना चाहिए। बहुत लोग यह कहते हैं कि नहीं होना चाहिए। और भी बहुत सारे लोग हैं जो इस बारे में कुछ जानते ही नहीं। क्योंकि इस विषय पर बहस चलने लगी है इसलिए जानने वाले लोंगों के लिए यह अनिवार्य हो जाता है कि वे किसी एक ओर हो जायें।
आजकल चुनाव आयुक्त के पद पर तैनात श्रीमान एस वाई कुरेशी पहले नाको के डीजी हुआ करते थे। वे स्कूलों में सेक्स एजूकेशन के हिमायती हैं। उनका कहना है कि एक उम्र ऐसी होती है जब बच्चा अपने आस-पास के बारे में जानना चाहता है। सेक्स उन्हीं विषयों में एक है। यहां तक उनकी बात से हर कोई इत्तेफाक रखेगा। लेकिन इसका जवाब यह नहीं हो सकता कि सेक्स के बारे वहां पढ़ाया जाए जहां व्यावसायिक और तकनीकि शिक्षा दी जाती है। सेक्स न व्यवसाय है और न ही तकनीकि। यह शुध्दरूप से निजी, पारिवारिक और सामाजिक विषय है। यह कहना सही नहीं होगा कि एक किशोर या किशोरी को इस विषय पर जानकारी नहीं होनी चाहिए। उसे निश्चितरूप से इस बारे में पता होना चाहिए लेकिन उस रास्ते नहीं जिसकी हिमायत कुरैशी जैसे लोग कर रहे हैं।
परिवार की उस कड़ी को पुनर्स्थापित करने की जरूरत है जिसके टूटने के कारण यह समस्या पैदा हुई है।

2 thoughts on “टूटते परिवार का दंशः सेक्स एजूकेशन

  1. ‘यह तीसरा पुरुषार्थ’ सैद्धान्तिक कम व्यावहारिक ज्यादा होता है। स्कूलों में इस शिक्षा की थ्योरी क्लासेस और प्रैक्टिकल क्लासेस का प्रतिशत कितना और कैसे निर्धारित किया जाएगा?

    Like

  2. badhiya likha hai. yeh vishay samvedansheel hai, lekin bharat sarkar iske saath jaisa bartav kar rahee hai vah asahaneey hai. is mudde par apko thoda vistaar se likhna chaahiye. apmein is mudde ke mukammal partal ka samarthya hai, lihaja ummeed karta hoon ki aap is disha mein jald hee kadam badhaenge.
    Isht Deo Sankrityaayan
    idsankrityaayan@gmail.com
    iyatta.blogspot.com

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s