रवि रतलामी को पुरस्कार, क्या और क्यों?

“इंटरनेट के हिन्दीकरण व प्रोग्राम डेवलपमेन्ट के साथ समुदाय की समस्याओं के समाधान के लिए दिये जानेवाले माइक्रोसाफ्ट के मोस्ट वैल्युएबल प्रोफेशनल एवार्ड के लिए स्थानीय रविशंकर श्रीवास्तव “रवि रतलामी” को चुना गया है. “

यह समाचार आज दैनिक भास्कर में है. एक अन्य रतलामी नीरज शुक्ला ने यह स्टोरी की है. उन्होंने लिखा है कि रवि रतलामी रतलाम के दूसरे ऐसे व्यक्ति हैं जिन्हें माइक्रोसाफ्ट ने इस पुरस्कार के लिए चुना है. इसके पहले सभासाक्षी (प्रभासाक्षी पढ़ें) डॉट काम के संपादक बालेन्दु शर्मा को यह पुरस्कार मिल चुका है. लेकिन मजेदार है उस पत्रकार की यह टिप्पड़ी कि पुरस्कार में क्या और क्यों? रिपोर्टर बताता है कि उनको माइक्रोसाफ्ट कुछ मुफ्त साफ्टवेयर देगा जो कि लाखों रुपये का होगा. और उन्हें प्रशस्तिपत्र भी दिया जाएगा.

पुरस्कार रवि जी को मिला है, इस खबर को सुनकर हिन्दी ब्लागरों में अपार हर्ष की लहर दौड़ चुकी है. इस दौड़ती लहर में कुछ चिट्ठाकारों की भावनाएं हिलोरे भी मार सकती हैं जिसे देखते हुए सरकार ने कुछ एहतियाती कदम उठा लिये हैं. मसलन अगर आप रविजी को बधाईवाली टिप्पड़ी करते हैं तो उसकी जांच-पड़ताल हो सकती है. जैसा कि कल ही रवि जी सावधान कर चुके हैं कि आपको अंट-शंट बधाईयों वाला लिंक मिल सकता है जिनका संबंध नारी नर्क का द्वार वाले जालस्थानों से हो सकता है.

रवि जी को बधाई.
रवि रतलामी का सहयोग लेने के लिए ब्लागरों को बधाई.
उस माइक्रोसाफ्ट को भी बधाई जिसने 14 लोगों को चुनते समय एक अदद हिन्दी ब्लागर को स्थान दिया.
आप सबको बधाई, क्योंकि आपने यह खबर पढ़ी.

9 thoughts on “रवि रतलामी को पुरस्कार, क्या और क्यों?

  1. बिलकुल सही कहा आपने… रवि जी को लख-लख बधाईयाँ… यह सभी हिन्दी ब्लॉगरों के लिये प्रेरणा का समाचार है…

    Like

  2. उहां भी बधाई और अब इहां भी बधाई, बधाईयां है जी बधाईयां

    Like

  3. रवि जी को, आपको, बिल्लू भईया एंड कंपनी को और हमको भी बधाई! 🙂

    और कोई रह गया हो तो उसको भी बधाई।

    Like

  4. रवीजी की मेहनत रंग लायी.मज़ा आ गया
    ऐसे समाचार तसल्ली देते हैं.सुल्तान अहमद का शेर रवीजी पर कितना मौजू है गौर फर्मायें-
    है ये पत्थरों से बना शहर
    मगर उसमें एक नदी तो है.
    जो है ज़िन्दगी की गवाह सी,
    किसी आंख में वो नमी तो है.
    चुपचाप काम करने की उनकी आदत प्रेरणा देती है.
    डॉ.सुभाष भदौरिया अहमदाबाद.

    Like

  5. यह भदौरिया पागल है. अगर अच्छा कमेंट भी करे तो पब्लिश मत करिये, यह अंततः जहर ही उगलेगा. बिना लालच इसका कमेंट डिलिट कर दिया करिये, यह स्तरहीन है और हर जगह से भगाया गया है.

    Like

  6. डर के मारे, यहीं रवी जी को बधाई दे देते हैं। कहीं हमें वायरस न समझ बैठें 🙂

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s