इसे पूरा पढिये, मजा आ जाएगा

अनिद्रा एक जीवन शैली है
ओशो
अनिद्रा कोई बीमारी नहीं है। अनिद्रा एक जीवनशैली है। प्रकृति की ओर से मनुष्य को इस प्रकार बनाया गया है कि वह कम से कम आठ घंटे कड़ा श्रम करे। जब तक वह आठ घंटे कड़ा श्रम नहीं करता, तब तक सोने का अधिकार अर्जित नहीं करता और जैसे-जैसे कोई समाज समृद्ध होने लगता है, लोग ज्यादा मेहनत नहीं करते। उनके लिए काम करने की जरूरत नहीं रह जाती, उनका काम दूसरे कर देते हैं।ये लोग सारा दिन ऐसे छोटे-मोटे काम करते हैं जिनको करने में इन्हें मजा आता है, लेकिन ये छोटे-मोटे काम उस तरह का कड़ा श्रम नहीं होते जैसा किसी लकड़हारे को या पत्थर तोड़ने वाले को करना पड़ता है।

मनुष्य शरीर इस प्रकार से बना है कि आठ घंटे के कड़े श्रम के बाद उसे स्वभावतः नींद आ जाए, ताकि ऊर्जा फिर से ताजी हो सके, लेकिन जिसने बहुत धन कमा लिया हो उसे भी यदि आठ घंटे लकड़ी काटना पड़े तो वह कहेगा कि फिर इतने धन का क्या लाभ? लकड़ी ही काटनी थी तो वह बिना लखपति बने भी काटी जा सकती थी। तो यदि अमेरिका में पाँच करोड़ लोग अनिद्रा के रोग से पीड़ित हैं, तो इसका इतना ही अर्थ है कि वे सो पाने का अधिकार अर्जित नहीं कर रहे। वे ऐसी परिस्थिति पैदा कर रहे हैं, जिसमें नींद अपने आप आ सके। गरीब देशों में तुम्हें इतने लोग अनिद्रा से पीड़ित नहीं मिलेंगे।यह बात तो सदियों से सबको पता है कि भिखारियों को सम्राटों से बेहतर नींद आती है। शरीर का काम करने वाले बुद्धिजीवियों से ज्यादा अच्छी तरह सो लेते हैं। गरीबों की नींद अमीरों से ज्यादा गहरी होती है क्योंकि उन्हें अपनी रोजी-रोटी कमाने के लिए कड़ी मेहनत करना पड़ती है, और इस कड़ी मेहनत के साथ ही साथ वे अपनी नींद का अधिकार भी कमा लेते हैं।

वास्तव में क्या होता है : सारा दिन तुम आराम करते हो, फिर रात बिस्तर में करवटें बदलते हो। इतना ही व्यायाम तुम्हारे लिए बाकी बचा है। और वह भी तुम करना नहीं चाहते। जितनी करवटें बदल सकते हो, बदलो। अगर पूरा दिन तुमने आराम किया है तो रात को नींद नहीं आ सकती। तुम्हारा शरीर पहले ही आराम ले चुका है।जो लोग अनिद्रा के शिकार हैं, वे यदि सच ही उससे छुटकारा पाना चाहते हैं, तो उन्हें इसे बीमारी नहीं मानना चाहिए। डॉक्टर के पास जाने से कुछ भी न होगा। उन्हें चाहिए कि वे अपने बगीचे में काम करें, कुछ मेहनत करें और नींद लाने की कोशिश न करें- वह अपने आप आती है। नींद तुम ला नहीं सकते, वह अपने आप आती है।

कठिनाई यह है, प्रकृति ने तो यह कभी चाहा नहीं कि तुम लोग संसार की सारी संपत्ति इकट्ठी कर लो और बाकी लोग गरीब रहें। प्रकृति के इरादे तो यही थे कि हर व्यक्ति काम करे। प्रकृति ने कभी अमीर और गरीब की वर्ग व्यवस्था नहीं चाही थी।यह संभव है कि लोगों के काम अलग-अलग ढंग के हों। यदि तुम पूरा दिन चित्र बनाते रहे हो तो उससे भी नींद आ जाएगी। या फिर नकली व्यायाम खोजो- जिम जाओ, दौड़ लगाओ। लेकिन ये बेकार के व्यायाम हैं- जब तुम लकड़ी काट सकते हो, जो किसी काम आएगी, तो फिर दौड़ क्यों लगाते हो? तुम्हारे बगीचे पर कोई और आदमी काम कर रहा है, और वह आराम की नींद सोता है। तुम उसे उसके काम के लिए पैसे देते हो और वह मजे से सोता है।तुम दौड़ लगाने जाते हो, कोई तुम्हें उसके पैसे भी नहीं देता; और न तुम्हें आराम से नींद आती है। दौड़ भी तुम आखिर कितना लोगे? और जो व्यक्ति पूरी रात न सोया हो उसे सुबह दौड़ने का मन भी नहीं करेगा, क्योंकि रातभर तो वह जरा-सी नींद के लिए संघर्ष करता रहा है। पूरी रात करवटें बदल-बदलकर सुबह जरा-सी तो आँख लग पाती है- और उस समय उससे कहा जाता है कि वह दौड़ लगाए, जॉगिंग करे!

अनिद्रा की गिनती बीमारियों में नहीं करनी चाहिए। लोगों को बस इतना बोध दिलवा देना चाहिए कि तुम शरीर की स्वाभाविक जरूरतों को पूरा नहीं कर रहे हो। लोग तैर सकते हैं, टेनिस खेल सकते हैं, लेकिन ये सब चीजें आठ घंटे के कड़े श्रम की विकल्प नहीं हैं। मनुष्य बुनियादी रूप से शिकारी था- तब उसके पास मशीनगनें नहीं थीं, तीर-कमान थे- जानवरों के पीछे उसे दौड़ना पड़ता था। और यह पक्का नहीं होता था कि हर रोज उसे भोजन मिल जाएगा। पूरा दिन वह जानवरों के पीछे दौड़ता था और अकसर तो ऐसा होता था कि वह एक भी शिकार न पकड़ पाए, बुरी तरह थके हुए, खाली हाथ उसे घर लौट आना पड़ता था।तुम्हारा शरीर अभी भी तुमसे उसी श्रम की माँग कर रहा है। यह तुम्हारा चुनाव है कि वह श्रम तुम किस प्रकार करना चाहते हो; फिर अनिद्रा अपने आप ही दूर हो जाएगी। उन पाँच करोड़ अनिद्रा-पीड़ितों को किसी सहानुभूति की जरूरत नहीं है। उनसे सीधे-सीधे कह दिया जाना चाहिए कि ‘तुम्हारा जीने का ढंग गलत है। इस ढंग को बदलो या फिर इस पीड़ा को झेलो।’ और यदि ये पाँच करोड़ लोग दिन में आठ घंटा काम करना शुरू कर देते हैं तो एक बड़ी क्रांति घट सकती है। उन्हें अपने भोजन, अपने कपड़े या अपने मकान के लिए काम करने की तो अब जरूरत नहीं है, लेकिन वे उन लोगों के लिए काम कर सकते हैं जिन्हें भोजन चाहिए, दवाइयाँ चाहिए, जरूरत की और चीजें चाहिए।

यदि पाँच करोड़ लोग आठ घंटा रोज गरीबों के लिए काम करने लगें तो समाज का पूरा वातावरण बदल जाएगा। वर्गों के बीच की जो लड़ाई है, जो संघर्ष है वह समाप्त हो जाएगा, क्योंकि फिर कोई वर्ग ही न रहेंगे।और यह समस्या रोज बड़ी होती जाने वाली है, क्योंकि हर जगह मशीनें आदमी की जगह ले रही हैं। मशीनें ज्यादा कुशल, ज्यादा आज्ञाकारी हैं; मशीनों को कोई छुट्टी भी नहीं चाहिए।मशीनें कॉफी-ब्रेक भी नहीं माँगतीं। और एक मशीन सौ लोगों का या हजार लोगों का काम कर सकती है। तो जल्दी ही संसार मुश्किल में पड़ने वाला है; आने वाले दिनों में अनिद्रा सबसे बड़ी समस्या होगी, क्योंकि जब सब काम मशीनें संभाल लेंगी तो आदमी खाली हो जाएगा। उसे काम न करने की तनख्वाह मिलेगी। तो मैं इसे कोई बीमारी नहीं गिनता, इसे किसी बीमारी में मत गिनो।जगह-जगह ऐसे लोगों के लिए विशेष ध्यान केंद्र होने चाहिए, जो अनिद्रा से पीड़ित हैं। ध्यान उन्हें शिथिल होने में सहयोगी होगा। और जब वे ध्यान करें तो उन्हें यह बता दिया जाना चाहिए कि केवल ध्यान से काम नहीं चलेगा, वह उपचार का केवल आधा हिस्सा है। तुम्हें शारीरिक श्रम भी करना पड़ेगा।

और मेरा मानना है कि जो लोग अनिद्रा से पीड़ित हैं, वे कुछ भी करने को तैयार होंगे।और कड़े श्रम की अपनी खूबसूरती है। लकड़ी काटते हुए तुम पसीना-पसीना हो जाओ और अचानक ठंडी हवा तुम्हारे शरीर से टकराए… शरीर में ऐसी प्यारी अनुभूति होगी कि जो व्यक्ति परिश्रम नहीं करता वह उसे समझ भी नहीं सकता। गरीब आदमी के भी अपने ऐश्वर्य हैं। केवल वही उनके बारे में जानता है।

दी पाथ ऑफ दी मिस्टिक
सौजन्य ओशो इंटरनेशनल फाउंडेशन
(वेबदुनिया से साभार)

5 thoughts on “इसे पूरा पढिये, मजा आ जाएगा

  1. बहुत उपयोगी एवं ज्ञानवर्धक लेख चुना है आप ने.

    विस्फोट का नया अवरण पिछले आवरण से अच्छा है

    — शास्त्री

    हिन्दी ही हिन्दुस्तान को एक सूत्र में पिरो सकती है
    http://www.Sarathi.info

    Like

  2. बढ़िया लेख प्रस्तुत किया है आपने। वैसे, बाद के वर्षों में ओशो खुद भी अनिद्रा के शिकार रहे थे। तब उन्होनें एक दफ़ा कहा था कि “मनुष्य को सोने की कोई ज़रूरत नहीं होती है। आदि मानव सुरक्षा के लिए रात को गुफ़ा में रहते थे और कृत्रिम रोशनी पैदा करने का ज्ञान न होने की वजह से सोते थे। सोना करोड़ों वर्षों की मानवीय आदत का परिणाम है।” 🙂

    Like

  3. भाई प्रतीक अभी तो ओशो की यही बात मानकर चलते हैं. हालांकि ध्यान के निरंतर अभ्यास से सोने की आवश्यकता कम हो जाती है. स्वामी राम कहते थे चार घंटे से अधिक सोना समय की बरबादी है.

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s