आपके ब्लाग का गूगल पेजरैंक

विद्वान ब्लागरों को सबकुछ पता होता है इसलिए उनके लिए यह पुरानी जानकारी होगी. लेकिन मेरे जैसे अनाड़ियों के लिए यह नयी जानकारी है. जितना पता है वह आपसे शेयर करते हैं और जो मुझे नहीं पता वह आप इसमें जोड़ दीजिए.

गूगल पेजरैंक (google pageRank) का आविष्कार गूगल के आविष्कारक द्वय ने किया था. खुद गूगल क्या कहता है अनुवाद नहीं करूंगा. अंग्रेजी में पढ़ लें-

Introduction
Google runs on a unique combination of advanced hardware and software. The speed you experience can be attributed in part to the efficiency of our search algorithm and partly to the thousands of low cost PC’s we’ve networked together to create a superfast search engine.
The heart of our software is PageRank™, a system for ranking web pages developed by our founders Larry Page and Sergey Brin at Stanford University. And while we have dozens of engineers working to improve every aspect of Google on a daily basis, PageRank continues to play a central role in many of our web search tools.


PageRank Explained
PageRank relies on the uniquely democratic nature of the web by using its vast link structure as an indicator of an individual page’s value. In essence, Google interprets a link from page A to page B as a vote, by page A, for page B. But, Google looks at considerably more than the sheer volume of votes, or links a page receives; for example, it also analyzes the page that casts the vote. Votes cast by pages that are themselves “important” weigh more heavily and help to make other pages “important.” Using these and other factors, Google provides its views on pages’ relative importance. Of course, important pages mean nothing to you if they don’t match your query. So, Google combines PageRank with sophisticated text-matching techniques to find pages that are both important and relevant to your search. Google goes far beyond the number of times a term appears on a page and examines dozens of aspects of the page’s content (and the content of the pages linking to it) to determine if it’s a good match for your query.

Integrity
Google’s complex automated methods make human tampering with our search results extremely difficult. And though we may run relevant ads above and next to our results, Google does not sell placement within the results themselves (i.e., no one can buy a particular or higher placement). A Google search provides an easy and effective way to find high-quality websites that contain information relevant to your search.

मोटी बात यह कि गूगल जब सर्च मारता है तो पेजरैंक का बड़ा महत्व होता है. उसी से तय होता है कि आपकी साईट सर्च में कहां रखी जाए. पेजरैंक पाने का सबसे आसान तरीका यह है कि अपनी साईट पर लोगों का लिंक दीजिए और ऐसा गढजोड़ बनाईये कि लोग आपकी साईट का लिंक अपने यहां दें. आवाजही कितनी होती है इससे खास मतलब नहीं है मतलब यह है कि जो खोजा गया उससे जुड़ी कैसी जानकारी आपके पन्ने पर है. (हिन्दी में यह कैसे काम करता है, मालूम नहीं.)

वैसे और भी तरह की जानकारियां और तरीके लोग बताते हैं लेकिन मोटी बात तो यही है. इस बक्से में अपनी साईट का नाम भरिए देख लीजिए कि आपकी पेज रैंक क्या है?
अपने ब्लाग पर स्थाई तौर एक चमकी (widget)लगाना चाहते हैं और बहुत कुछ जानना भी चाहते हैं तो पेजरैंकबार की वेबसाईट तो है ही.

3 thoughts on “आपके ब्लाग का गूगल पेजरैंक

  1. अगर आप किसी एग्रीगेटर के जरिए आ रहे हैं तो आप ब्लाग पर नहीं बल्कि पोस्ट पर पहुंच रहे हैं. इसलिए वह इस ब्लाग की पेजरैंक 0 दिखाएगा. अगर आप विस्फोट का पेजरैंक देखना चाहते हैं तो हेडर पर क्लिक करें. फिलहार यह 4/10 हैं.

    Like

  2. भाई साहब इसमें याहू की साइट 9/10 बताती है, रेडिफ़ की 6/10, ब्लॉगवाणी की 4/10 और मेरा ब्लॉग 3/10 बताता है, लेकिन इसका क्या मतलब है, जरा विस्तार से समझना चाहूँगा (किसी तकनीकी ब्लॉगर से) 🙂 🙂 आप तो पुरानी खबरें परोसते हैं ना 🙂 🙂 🙂 (मैं नहीं बल्कि ऐसा दूसरे कई लोग कहते हैं, जिसे आप गम्भीरता से ले लेते हैं)

    Like

  3. और कोई नहीं बोलता तो मैं ही बताता हूं जितना मैं समझता हूं.
    पेजरैंक तय करते समय कई तरह की बातों का ध्यान रखा जाता है. मसलन आपका कंटेट कैसा है, आवाजाही कैसी है, क्या उस कंटेट को और लोग भी लिंक कर रहे हैं ऐसी ही कुछ बातें और भी होंगी.
    इन्हीं बातों के आधार पर गूगल पेजरैंक बनाता है और खोज के दौरान आपकी साईट का नाम सुझाता है. उसकी सामग्री को आगे करता है. तो अगर याहू का पेजरैंक 9/10 है तो खोज के दौरान आपके ब्लाग से पहले गूगल याहू की सामग्री को प्रमुखता देगा. अगर आपकी पेजरैंक 3/10 है तो यह बुरा नहीं है. मैंने प्राईसवाटरहाउसकूपर की साईट देखी थी तो उसका पेजरैंक तो 2/10 है जबकि वह दुनिया की सबसे बड़ी सलाहकार कंपनियों में एक है.

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s