कुरान पढ़कर हिन्दू धर्म में वापस लौट आयी आथिरा

केरल की आथिरा को बहला फुसलाकर पहले इस्लाम कबूल करवा लिया गया लेकिन जब उसे इस्लाम की तालीम देनी शुरु की गयी तो उसका आजाद मन भयभीत हो गया और वह वापस हिन्दू धर्म में लौट आयी।

२३ साल की आथिरा कासरगोड़ की रहनेवाली है। उसका नाम चर्चा में उस वक्त आया जब जुलाई में मीडिया के सामने आकर उसने कबूल किया कि उसने अपनी मर्जी से इस्लाम धर्म स्वीकार किया है। उस वक्त वह पूरी तरह इस्लामी लिबास में थी और सिर पर हिजाब बांध रखा था। लेकिन दो महीने के भीतर ही अब वह फिर से मीडिया के सामने आयी है और उसने कहा है कि वह अपने धर्म में वापस लौट आयी है। इस बार उसके सिर पर हिजाब की बजाय परंपरागत केरल का परिधान और सिर पर बिन्दी का निशान था। दो महीने के भीतर ऐसा क्या हुआ कि जिस लड़की ने अपनी मर्जी से इस्लाम कबूल किया था वह वापस हिन्दू धर्म में लौट आयी?

असल में आथिरा एक स्वतंत्र सोच समझ वाली लड़की है और १५ जुलाई को अचानक एक दिन वह अपना घर छोड़कर चली गयी। अपने पीछे वह एक २० पन्नों का पत्र छोड़कर गयी थी जिसमें उसने कहा था कि इस्लाम का अध्ययन करने जा रही है। इसके कुछ ही दिन अचानक वह पुलिस स्टेशन पहुंचती है और अपनी सुरक्षा की गुहार लगाती है। कन्नूर पुलिस उसे स्थानीय अदालत में पेश करती है जहां से उसे महिला छात्रावास में भेज दिया जाता है। इसके बाद आथिरा के मां बाप ने हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया और आथिरा को अपने घर ले जाने की इजाजत मांगी। आथिरा इस शर्त पर अपने घर जाने के लिए तैयार हो गयी कि उसके मां बाप उसे इस्लाम का अभ्यास जारी रखने से नहीं रोकेंगे। मां बाप द्वारा अदालत में आश्वासन देने के बाद वह अपने घर वापस चली गयी।

अब जबकि गुरुवार को वह मीडिया के सामने दोबारा आयी तो उसका कहना है कि “उसके मुस्लिम दोस्तों ने उसे बहका दिया था। उन लोगों ने मुझे समझाया कि हिन्दुओं के यहां पत्थर को पूजा जाता है। यह कितना मुर्खतापूर्ण है। इसके अलावा उन्होंने मुझे ये भी समझाया कि तुम्हारे यहां इतने सारे देवी देवता हैं जबकि इस्लाम में सिर्फ एक अल्लाह हैं। उन लोगों की ऐसी बातें सुनकर मेरे मन में इस्लाम के बारे में और अधिक जानने की इच्छा हुई।” इसके बाद ही वह घर छोड़कर चली गयी और मुस्लिम दोस्तों के संग रहने लगी जहां उसे इस्लाम की तालीम देने के लिए किताबें दी गयीं। आथिरा कहती है कि “इन्हीं किताबों में एक किताब जहन्नुम के बारे में थी जिसे पढ़कर मैं डर गयी।”

इसके अलावा आथिरा को उन लड़कियों से जुड़ी बातें बतायी गयीं जिन्होंने इस्लाम कबूल कर लिया है। जाकिर नाईक के भाषण भी उसे सुनाये गये। उसे वाट्स एप के एक ग्रुप हिदायत सिस्टर्स से भी जोड़ दिया गया। इस ग्रुप में छह सात लड़कियां थीं। इसी ग्रुप में एक लड़की से उसकी जान पहचान हो गयी जो कि हिन्दु से मुसलमान बनी थी। उस लड़की से थोड़ी नजदीकी बढ़ी तो उसने खुलासा किया कि वह एक मुस्लिम लड़के से प्यार करती थी। उसी ने उसे इस्लाम कबूल करवाया है।

आथिरा के ऊपर इस्लाम का भूत इस कदर सवार हुआ कि उसने अपने मां बाप पर भी इस्लाम कबूल करने का दबाव डाला। आथिरा कहती है ” मुझे बताया गया कि कुरान के मुताबिक अगर किसी के मां बाप इस्लाम कबूल नहीं करते हैं तो उनसे प्यार करने की जरूरत नहीं है क्योंकि वो काफिर हैं।” इसके बाद आथिरा को तीन इस्लामिक संस्थाओं का पता बताया गया जहां वह इस्लाम और कुरान का अध्ययन कर सकती है। लेकिन इन सबके बीच आथिरा इस बात को लेकर परेशान रहती थी कि उसके मां बाप उसकी वजह से मुश्किल में फंस गये हैं।

आथिरा को इस्लाम कबूल करवाने के पीछे एक बार फिर उसी संस्था का नाम सामने आया है जो केरल में जिहादी तैयार करने के काम में लगा हुआ है। पापुलर फ्रंट आफ इंडिया से जुड़े शिराज ने ही उसे हिन्दू धर्म से अलग होने के लिए उकसाया और इस्लाम कबूल करवाया। पापुलर फ्रंट आफ इंडिया इससे पहले भी एक हिन्दू लड़की को बहकाकर इस्लाम कबूल करवा चुका है और उसकी एक मुस्लिम लड़के से शादी भी हो गयी थी। सुप्रीम कोर्ट के दखल के बाद अब वह लड़की अपने मां बाप के साथ है और एनआईए पूरे मामले की जांच कर रहा है।

बहरहाल घर लौटकर आने के बाद आथिरा से हिन्दू आर्य समाजम के लोगों ने संपर्क किया और बिना कोई दबाव डाले उसे कुरान ही दोबारा पढ़ने के लिए कहा। लेकिन यह भी कहा कि एक सामान्य मनुष्य की तरह इसे पढ़ना और उसके बाद जो तुम्हारा दिल करे वह करना। उसने कुरान को पढ़ना शुरु किया तो वह हैरान रह गयी कि इस किताब में गैर मुस्लिमों को काफिर करार देकर उनके कत्ल का फरमाम दिया गया है। उसे यह भी समझ में आया कि कुरान सिर्फ मुसलमान से प्रेम करने के अलावा पूरी दुनिया से नफरत करना सिखाता है। लिहाजा, पहले दोजख का डर और बाद में कुरान में लिखी नफरती बातों ने उसकी आंखें खोल दीं और वह अपने धर्म में वापस लौट आयी।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s