बदली विश्व मानसिकता का शिकार हुए रोहिंग्या

पहले तो यह मानिए कि रोहिंग्या मुश्किल में हैं। सचमुच उन पर आपदा आई हुई है। बूढे, बच्चे, औरतें कई कई किलोमीटर पैदल चलकर, नदी पारकर बांग्लादेश पहुंच रहे हैं। न रहने का ठिकाना, न खाने का और न आगे जाने का। वो बस निकल पड़े हैं, कहां पहुंच जाएंगे कुछ पता नहीं। लेकिन उनकी … Continue reading बदली विश्व मानसिकता का शिकार हुए रोहिंग्या

डरा हुआ है या डरा रहा है मुसलमान?

तारीख २६ जून। ईद का दिन। मेरठ के ईदगाह में लोग ईद की नमाज अदा करने आये। हजारो की तादात। नये कपड़े। नयी टोपी। नया चप्पल। शरीर पर सबकुछ नया नया। लाउडस्पीकर से नमाज अदा करायी गयी। इसके बाद तेवहार के दिन "प्रेम और भाईचारे" का संदेश प्रसारित किया गया। "मुसलमान मोदी और योगी सरकार … Continue reading डरा हुआ है या डरा रहा है मुसलमान?

​योग के युग पतंजलि: परमहंस माधवदास

माधवदास न होते तो हमारे दौर में योग का पुनर्जागरण न होता। ऋषियों की साधना गुफाओं तक सिमटकर जैसे सदियों से बची हुई हुई थी वैसे ही न जाने और कितनी सदियों तक बची रहती। लेकिन सौ साल की उम्र में परमहंस माधवदास (बंगाली बाबा) ने महसूस किया कि वक्त आ गया है जब दुनिया … Continue reading ​योग के युग पतंजलि: परमहंस माधवदास

नबी निंदा के नाम पर

बहुत कम लोगों को पता है कि पाकिस्तान की बुनियाद कैसे पड़ी। इतिहास के गर्दो गुबार में वह छोटी सी घटना कहीं खो गयी जिसने पाकिस्तान की बुनियाद डाली थी लेकिन उसे याद रखना जरुरी है क्योंकि वही बुनियाद आज पाकिस्तान की नींव हिला रहा है।