सवर्ण शोषण का हथियार न बने दलित सुरक्षा कानून

कानून कमजोर वर्ग को संरक्षण और सुरक्षा प्रदान करने की गारंटी देते हैं लेकिन अगर कानून ही प्रताड़ना का औजार बन जाए तो क्या उसकी समीक्षा नहीं होनी चाहिए? क्या कानून लागू करने वाली संस्थाओं की जिम्मेदारी नहीं बनती कि वो उस कानून के दुरुपयोग को रोकें? सुप्रीम कोर्ट द्वारा एससी/एसटी एक्ट की समीक्षा ऐसा … Continue reading सवर्ण शोषण का हथियार न बने दलित सुरक्षा कानून

रामदेव: एक पाखंड कथा

रामदेव के जीवन पर बना एक टीवी सीरियल रामदेव एक संघर्ष झूठ का पुलिंदा है जिसमें सस्ती लोकप्रियता पाने के लिए रामदेव ने न सिर्फ ब्राह्मणों पर निशाना साधा है बल्कि यादवों के कुल को भी कलंकित किया है। रामदेव के गांव में दौरा करके डॉ ईश्वर सिंह यादव ने सच्चाई जानने की कोशिश तो … Continue reading रामदेव: एक पाखंड कथा

बंटवारे के लिए वह ‘पटेल’ सबसे ज्यादा जिम्मेदार था जिसे कोई नहीं जानता

प्रधानमंत्री मोदी ने संसद में खड़े होकर उस ऐतिहासिक बहस को फिर से जिन्दा कर दिया कि आखिर सरदार पटेल प्रधानमंत्री क्यों नहीं बने जबकि यह सरदार पटेल ही थे जिन्होंने देश को एक किया। विभिन्न रजवाड़ों को भारतीय तिरंगे की छत्रछाया में ले आये। संभवत: मोदी यह कहना चाहते थे कि अगर नेहरू पीएम … Continue reading बंटवारे के लिए वह ‘पटेल’ सबसे ज्यादा जिम्मेदार था जिसे कोई नहीं जानता

कांग्रेस कल भी शाह बानो के खिलाफ थी, कांग्रेस आज भी शाह बानो के खिलाफ है

अगर नियति ने यही लिख दिया है कि अब बीजेपी अनंतकाल तक देश पर राज करे तो इसे भला कौन रोक सकता है? राज्यसभा में जिस तरह से कांग्रेस और तृणमूल कांग्रेस तीन तलाक के मुद्दे पर मुस्लिम मर्दों का बचाव कर रही है क्या उसे देश नहीं देख रहा होगा? क्या वो मुस्लिम महिलाएं … Continue reading कांग्रेस कल भी शाह बानो के खिलाफ थी, कांग्रेस आज भी शाह बानो के खिलाफ है

साड्डे नाल रहोगे तो स्मोग करोगे

स्मोक करनेवाला समुदाय स्मोग से ऐसा घबराया कि दस दिन तक दिल्ली में अफरा तफरी मची रही। खूब हो हल्ला मचा। सरकारें इधर से ऊधर नाचती रहीं। पर्यावरण की अदालत बंद कमरे में बैठकर फरमान सुनाती रही लेकिन इस हायतौबा से न कुछ होना था, न कुछ हुआ। मौसम चक्र ने अपने तरीके से धुंध … Continue reading साड्डे नाल रहोगे तो स्मोग करोगे

आये थे हरि भजन को, ओटन लगे कपास

८ नवंबर २०१६। भारतीय लोकतंत्र की एक काली रात जब भारत के "सनकी शासक" ने देश में आर्थिक आपातकाल लागू कर दिया। इस सनकी शासक को इस बात का कोई अंदाज नहीं था कि वह जो करने जा रहा है, उसका क्या परिणाम निकलेगा। वह इतना निश्चिंत था कि नोटबंदी की घोषणा करके अगले ही … Continue reading आये थे हरि भजन को, ओटन लगे कपास

बीएचयू को बदनाम करने के लिए कम्युनिस्टों ने लिया फेक इमेज का सहारा

कम्युनिस्ट बुद्धिजीवी किसी को बदनाम करने के लिए किस हद तक झूठे प्रोपेगेण्डा का सहारा ले सकते हैं, इसका ताजा उदाहरण बीएचयू में कथित तौर पर मारपीट की शिकार बताकर एक लड़की की फोटो को वायरल किया गया। फोटो को सोशल मीडिया पर प्रशांत भूषण और मृणाल पांडे जैसे नामी गिरामी कम्युनिस्ट समर्थकों ने भी … Continue reading बीएचयू को बदनाम करने के लिए कम्युनिस्टों ने लिया फेक इमेज का सहारा