बंटवारे की बंदरबांट और कम्युनिस्ट पार्टी आफ इंडिया

कॉमरेड यासिर रशीद हमदानी गुप्त कामरेड हैं। गुप्त मतलब अपनी पहचान सार्वजनिक नहीं कर सकते इसलिए वकील बनकर पाकिस्तान में रहते हैं। आज से तीन साल पहले उन्होंने एक लेख लिखा। "कम्युनिस्ट पार्टी ने पाकिस्तान का समर्थन क्यों किया?" अपने लेख में हमदानी इस बात का क्रेडिट लेते हैं कि कम्युनिस्ट पार्टी आफ इंडिया ने … Continue reading बंटवारे की बंदरबांट और कम्युनिस्ट पार्टी आफ इंडिया

एक चिट्ठी अनाम कश्मीरियों के नाम

यह खुला खत कश्मीर के उस अनाम आम आवाम के नाम है जो बीते सात दशक से आजादी के उन्माद का शिकार रही है। वह जिसके नाम पर सबसे ज्यादा राजनीति हुई है, लेकिन इस राजनीति में सबसे ज्यादा उसने ही सफर किया है। जैसा कि आप जानते हैं कि सुप्रीम कोर्ट में इस वक्त … Continue reading एक चिट्ठी अनाम कश्मीरियों के नाम

अड़ियल योगी का अस्वीकार्य रवैया

कई बार ऐसा होता है कि आपका चुप रहना आपके बोलने से बेहतर साबित होता है। अगर बोलकर बात बिगड़ती है तो आदमी को चुप ही रहना चाहिए। गोरखपुर अस्पताल में अस्पताल प्रशासन की लापरवाही से हुई तीस बच्चों की मौत पर योगी चौबीस घण्टों तक चुप रहे। उनके पूर्व निर्धारित कार्यक्रम अबाध रूप से … Continue reading अड़ियल योगी का अस्वीकार्य रवैया

गोरखपुर में मौत का मातम

एक आवाक कर देने वाली घटना की परतें उठाना शुरु करते हैं तो परत दर परत अवाक होते जाते हैं। भारी मन और सजल आंखों से सन्नाटे में समा जाते हैं। किसे दोष दें? किसे गलत कहें? किसे दोष देकर किसे दोषमुक्त कर देगें? उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में यूं तो हर साल इन्सेफिलाइटिस से … Continue reading गोरखपुर में मौत का मातम

डरा हुआ है या डरा रहा है मुसलमान?

तारीख २६ जून। ईद का दिन। मेरठ के ईदगाह में लोग ईद की नमाज अदा करने आये। हजारो की तादात। नये कपड़े। नयी टोपी। नया चप्पल। शरीर पर सबकुछ नया नया। लाउडस्पीकर से नमाज अदा करायी गयी। इसके बाद तेवहार के दिन "प्रेम और भाईचारे" का संदेश प्रसारित किया गया। "मुसलमान मोदी और योगी सरकार … Continue reading डरा हुआ है या डरा रहा है मुसलमान?

हाय रे हामिद अंसारी

हामिद अंसारी पैदा तो हुए कोलकाता में लेकिन वो पैतृक रूप से उत्तर प्रदेश के गाजीपुर से संबंध रखते हैं। उनके दादा मुख्तार अंसारी भारत की राजनीति में ख्यातनाम शख्सियत रहे है। मुख्तार अंसारी एक सर्जन थे और लंदन में रहते थे। भारत आये तो एक साथ कांग्रेस और मुस्लिम लीग ज्वाइन कर लिया। वो … Continue reading हाय रे हामिद अंसारी

35 ए को पलट दो

कश्मीर में आतंकवाद को खत्म करने के लिए जरूरी है कि वहां के नागरिकों को विकास की मुख्यधारा का हिस्सा बनाया जाए। कश्मीर का विकास तब तक नहीं हो सकता जब तक यह कानूनी धाराएं मौजूद रहेंगी जो निवेशक को वहां निवेश करने से रोकती हैं। और जब तक कश्मीर में सामान्य पूंजी निवेश नहीं होता कश्मीर के हालात कभी नहीं बदलेंगे।