कॉमेडियन स्टैंड अप!

भारत में अंग्रेजी वाले हमेशा दूसरे का मजाक बनाते हैं। अंग्रेजी की पढ़ाई के दौरान कुछ तो उनके भीतर ऐसा स्वभाव बन जाता है कि भारत और भारतीयता का मजाक उड़ाना उनके लिए उनकी प्रगतिशीलता बन जाती है। शायद हमारे यहां अंग्रेजी सिर्फ भाषा नहीं है। अपने रूप स्वरूप में वह आज भी ब्रिटिश उपनिवेशक … Continue reading कॉमेडियन स्टैंड अप!

नाम में क्या रखा है?

बख्तियार खिलजी अफगान था और एक तुर्क सुल्तान कुतुबद्दीन ऐबक का सेनापति भी। उसने सुल्तान के आदेश पर उत्तर पूर्व भारत में सैन्य लूट का सिलसिला आरंभ किया। इसी लूट पाट और नरसंहार के क्रम में आगे बढ़ते हुए वह नालंदा और विक्रमशिला विश्वविद्यालय पहुंचा। उसने देखा कि इन विश्वविद्यालयों में तो काफिरों की विद्या … Continue reading नाम में क्या रखा है?

नोएडा बन सकता है इलेक्ट्रॉनिक क्रांति का केन्द्र

सैमसंग भारत ने नोएडा में दुनिया की सबसे बड़ी मोबाइल फैक्ट्री की स्थापना किया है। इस प्लांट में हर महीने १.२ करोड़ मोबाइल निर्मित होंगे। जाहिर है, ये मोबाइल सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि दुनिया के दूसरे बाजारों में भी निर्यात किये जाएंगे। इस प्लांट का महत्व इस बात से भी है कि पहली … Continue reading नोएडा बन सकता है इलेक्ट्रॉनिक क्रांति का केन्द्र

नंगरहार से नदारद होने के कगार पर

सिक्खों की एक खूबी से कोई इन्कार नहीं कर सकता। लंगर और सेवा। सिर्फ गुरुद्वारों में ही नहीं, कहीं कोई आपदा हो तो सिक्ख बिना किसी भेदभाव के सेवा करने के लिए प्रस्तुत हो जाता है। रोहिंग्या मुसलमानों का मामला हो या कि किसी और का। आलोचनाओं के बाद भी उन्होंने सेवा में कभी भेदभाव … Continue reading नंगरहार से नदारद होने के कगार पर

क्या भारत में महिलाएं असुरक्षित हैं?

थॉम्सन रॉयटर का यह कहना कि महिलाओं के लिए भारत दुनिया का सबसे असुरक्षित देश बन चुका है, एक साजिश है। साजिश इस तरह कि उन्होंने कोई सर्वे नहीं किया है। कुछ महिला अधिकार पर काम करनेवाले विशेषज्ञों से बात किया है। जाहिर है, भारत में उनका सामना बड़ी बिन्दी गैंग से ही हुआ होगा। … Continue reading क्या भारत में महिलाएं असुरक्षित हैं?

संघ संप्रदाय के बाहर हिन्दुत्व का शेर

संघ संप्रदाय के अंदर एक बड़ा वर्ग है जो इनके काम काज से खुश नहीं है। लेकिन उसके सामने मजबूरी ये होती है कि वह संघ संप्रदाय को छोड़कर कहीं जा नहीं सकता। केन्द्र में जब जब बीजेपी की सरकार आती है तो संघ संप्रदाय के भीतर असहमति और नाखुशी और बढ़ती है। इसका कारण … Continue reading संघ संप्रदाय के बाहर हिन्दुत्व का शेर

ये जनता है, इसे ट्रोल मत कहो-२

ट्रोल स्पेनिश का शब्द है जिसका मतलब होता है एक काल्पनिक शैतान जो बहुत भद्दा है। हो सकता है स्पेन में डराने के लिए ये शब्द कहीं से चलन में आया हो लेकिन इंटरनेट पर सबसे पहले इस नाम का इस्तेमाल उन रोबोट्स के लिए किया जो आटोमेटेड आपरेशन करते थे। जैसे, किसी की लाइक … Continue reading ये जनता है, इसे ट्रोल मत कहो-२